उमड़ घुमड़…

उमड़ घुमड़ कर बादल छाये
संग उनके विचार भी उफनाये
आधे- अधूरे , कच्चे- पक्के
कुछ कचोटते तो कुछ मुस्काते
कुछ आंसू लाते तो कुछ गुदगुदाते
कलम मेरी रुक रुक जाये
क्या लिखूं ऐसा..
जो सभी को भा जाये
सच्चे भाव …….
पर जो न मुझे रुलाए
न किसी और का मन दुखाएं
सभी मेरे अपने हैं
जिनसे दुःख-सुख के
क्षण सभी जुड़े हैं
उनके हाथों में कुछ नहीं…
सारे पल,इश्वर ने गढ़े हैं…
ऐ बादल…..
अपनी बूंदों में बहा
आंसूं सारे ले जा…
कर दे मेरा मन भी हरा…
कर दे मेरा मन भी हरा….
Advertisements

About Shoma Abhyankar

I believe "Life is short and the world is wide"and travel is best possible solution to make the best of this life. I am Shoma Abhyankar. Welcome to ASTONISHING INDIA
This entry was posted in Life, poem, Relationships and tagged , , . Bookmark the permalink.

Your Opinion Matters....

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s