Author Archives: Shoma Abhyankar

About Shoma Abhyankar

I believe "Life is short and the world is wide"and travel is best possible solution to make the best of this life. I am Shoma Abhyankar. Welcome to ASTONISHING INDIA

Book Review: Men And Dreams In Dhauladhar

Book: Men And Dreams In The Dhauladhar Author: Kochery C Shibu Genre: Fiction Publication: Niyogi books I am back with new book review. It has been some time since I last read and reviewed a book. But I was on … Continue reading

Posted in Book review | Tagged , | Leave a comment

खतों के सिलसिले

  वो दिन भी क्या खूब हुआ करते थे खतों में दोस्तों से रूबरू हुआ करते थे खत भी हमारे अजीब ही होते थे लड़कपन के ऊलजलूल ख्वाबों से सजते थे यूँ ही हंसा जाते थे, तमाम बातें कह जाते … Continue reading

Posted in poem | Tagged , , | 5 Comments

वो मेरा भगवान नहीं 

वो मेरा भगवान नहीं  जो नन्ही कली का कुचलना  यूँ ही गुमसुम देखता है  वो मेरा भगवान् नहीं  जो बीभत्स दुःकर्मियों   यूँ ही हाथ बांधे रक्षा करता है  वो मेरा भगवान नहीं  यूँ ही जो अधर्म में आँखे मूंदे सोता है  … Continue reading

Posted in poem | Tagged | Leave a comment

Book Review: The Jasmine Bloom

Book: The Jasmine Bloom Author: Rajat Narula Genre: Fiction Publication: Srishti Publishers I need to apologize for finishing the book in two days flat but not putting up the review sooner. No! I did not skip pages or skimmed through. … Continue reading

Posted in Book review | Tagged , , | 1 Comment

कुछ लम्हे ख़ास होते हैं

कुछ लम्हे ख़ास होते हैं यूँ ही दस्तक दे, छन से बिखर जाते हैं सवाल खड़े कर जाते हैं… वह पल पहले आता तो? क्या यूँ ही गुदगुदा जाता? या तब भी ओझल हो जाता ? वक्त तब क्या करवट … Continue reading

Posted in poem | Tagged , | 2 Comments

तुम और मैं

तुम और मैं अब हम बन नयी राह पर चल पड़े हैं तेरे सपने मेरे सपने अब हम बन नये आसमां में उड़ चले हैं अब तू अगर राह के कंकर चुन लेगा तो रोड़ों को मैं भी दूर करूंगी … Continue reading

Posted in Uncategorized | 9 Comments

फिर भी..

हर दिन हों लगे चाहे सारे छप्पन भोग, पर रस-स्वाद ढूँढ़ते हैं वो लोग, हम तो लगाते अपने प्रभु को, नमक-सूखी रोटी का भोग, फिर भी हर दिन थोडा, मुस्कुरा लेते हैं हम लोग !! फीके रंग, कपड़ा ढीला या … Continue reading

Posted in poem | Tagged , | 10 Comments